कंप्यूटर क्या है

आज के आधुनिक युग में हमें चारों तरफ कंप्यूटर की उपस्थिति दिखाई देती है इसके बिना आजकल कोई भी काम कर पाना बहुत मुश्किल है कंप्यूटर हमारे रोजमर्रा की रोजमर्रा के कामों को आसानी से करता है और हमारा टाइम और काम के गलत होने से बचाता है तो देखते हैं आखिर यह कंप्यूटर क्या है इससे पहले COMPUTER ki full form देख लेते है

C =Common, O =Operating, M =Machine, P =Purposely , U =Used for, T =Technological, E =Educational , R = Research

कंप्यूटर क्या है

कंप्यूटर एक प्रोग्राम युक्त इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है जो हमसे कोई इनपुट लेता है और हमें उस पर डाले गए प्रोग्राम के निर्देशों के अनुसार आउटपुट देता है। यह आउटपुट हमें गणितीय और संचालन करने के बाद ही देता है यह इस आउटपुट को भविष्य में उपयोग के लिए बचा सकता है यह संख्यात्मक और गैर संख्यात्मक घटनाओं को कर सकता है कंप्यूटर शब्द लेटेस्ट भाषा के कंप्यूटर से लिया गया है जिसका अर्थ होता है गणना करना

कंप्यूटर को विभिन्न कार्यों को करने के लिए अलग-अलग हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जाता है जिससे एक प्रोग्राम तैयार होता है और जो बैनरी अंकू अंकू अंको के अनुसार काम करता है कंप्यूटर में कोई भी प्रोग्राम बिना बायनरी अंकों के नहीं किया जा सकता क्योंकि कंप्यूटर को केवल बायनरी अंको की भाषा समझ में आती है बायनरी अंको में केवल दो ही अंक होते हैं जीरो और वन इनके ही द्वारा सभी प्रोग्राम बनते हैं

हर प्रोग्राम की अपनी मेमोरी होती है जिसमें प्रोग्राम का डाटा प्रोसेस के परिणाम को स्टोर करती है कंप्यूटर के कुछ पार्ट्स होते हैं जिनमें तार ट्रांजिस्टर सर्किट हार्ड डिस्क शामिल है जिन्हें हम हार्डवेयर कहते हैं जबकि प्रोग्राम और डाटा को सॉफ्टवेयर कहा जाता है

ऐसा माना जाता है कि विश्लेषणात्मक इंजन पहला कंप्यूटर था जिस का आविष्कार चार्ल्स बैबेज 1837  ने किया था इसमें इन्होंने पंच कार्ड का प्रयोग केवल पढ़ने की मेमोरी के रूप में किया था चार्ल्स बैबेज को कंप्यूटर का जनक भी कहा जाता है

कंप्यूटर के कुछ मुख्य  पार्ट्स है जिनके बिना कंप्यूटर काम नहीं कर सकता इस प्रकार से हैं।

प्रोसेसर = यह हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर से निर्देशों का पालन करवाता है।

मेमोरी=यह सीपीयू और स्टोरेज के बीच डाटा ट्रांसफर के लिए प्राथमिक मेमोरी है।

मदरबोर्ड= यह वह भाग है जो कंप्यूटर के अन्य सभी भागों को जोड़ने का कार्य करता है।

स्टोरेज डिवाइस= यह डाटा कोई स्थाई रूप से स्टोर करता है जैसे हार्ड ड्राइव।

इनपुट डिवाइस =यह आपको कंप्यूटर के साथ संचालन करने या डाटा इनपुट करने की अनुमति देता है जैसे कीबोर्ड।

आउटपुट डिवाइस= यह आपको आउटपुट देखने में सक्षम बनाता है जैसे कि मॉनिटर।

कंप्यूटर को विभिन्न मानदंडों के आधार पर विभिन्न प्रकारों में विभाजित किया जाता है। आकार के आधार पर कंप्यूटर को पाँच प्रकारों में विभाजित किया जा सकता है:

1. माइक्रो कंप्यूटर:

यह एक एकल-उपयोगकर्ता कंप्यूटर है जिसमें अन्य प्रकारों की तुलना में कम गति और भंडारण क्षमता होती है। यह CPU के रूप में एक माइक्रोप्रोसेसर का उपयोग करता है। पहला माइक्रो कंप्यूटर 8-बिट माइक्रोप्रोसेसर चिप्स के साथ बनाया गया था। माइक्रो कंप्यूटर के सामान्य उदाहरणों में लैपटॉप, डेस्कटॉप कंप्यूटर, पर्सनल डिजिटल असिस्टेंट (पीडीए), टैबलेट और स्मार्टफोन शामिल हैं। माइक्रो कंप्यूटर आमतौर पर सामान्य उपयोग जैसे ब्राउज़िंग, सूचना की खोज, इंटरनेट, एमएस ऑफिस, सोशल मीडिया आदि के लिए डिज़ाइन और विकसित किए जाते हैं।

2. मिनी कंप्यूटर:

मिनी-कंप्यूटर को “मिड्रेंज कंप्यूटर” के रूप में भी जाना जाता है। वे एकल के लिए डिज़ाइन नहीं किए गए हैं। वे बहु-उपयोगकर्ता कंप्यूटर हैं जिन्हें एक साथ कई उपयोगकर्ताओं का समर्थन करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इसलिए, वे आम तौर पर छोटे व्यवसायों और फर्मों द्वारा उपयोग किए जाते हैं। किसी कंपनी के अलग-अलग विभाग विशिष्ट उद्देश्यों के लिए इन कंप्यूटरों का उपयोग करते हैं। उदाहरण के लिए, किसी विश्वविद्यालय का प्रवेश विभाग प्रवेश प्रक्रिया की निगरानी के लिए एक मिनी-कंप्यूटर का उपयोग कर सकता है।

3. मेनफ्रेम कंप्यूटर:

यह एक बहु-उपयोगकर्ता कंप्यूटर भी है जो एक साथ हजारों उपयोगकर्ताओं का समर्थन करने में सक्षम है। उनका उपयोग बड़ी फर्मों और सरकारी संगठनों द्वारा अपने व्यावसायिक कार्यों को चलाने के लिए किया जाता है क्योंकि वे बड़ी मात्रा में डेटा को संग्रहीत और संसाधित कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, बैंक, विश्वविद्यालय और बीमा कंपनियां क्रमशः अपने ग्राहकों, छात्रों और पॉलिसीधारकों के डेटा को स्टोर करने के लिए मेनफ्रेम कंप्यूटर का उपयोग करते हैं।

4. सुपर कंप्यूटर:

सुपर कंप्यूटर सभी प्रकार के कंप्यूटरों में सबसे तेज और सबसे महंगे कंप्यूटर हैं। उनके पास विशाल भंडारण क्षमता और कंप्यूटिंग गति होती है और इस प्रकार प्रति सेकंड लाखों निर्देश एक साथ दे सकते हैं। सुपर-कंप्यूटर का कार्य-विशिष्ट होते हैं और इस प्रकार विशेष अनुप्रयोगों के लिए उपयोग किए जाते हैं जैसे कि वैज्ञानिक और इंजीनियरिंग विषयों में बड़े पैमाने पर संख्यात्मक समस्याएं, जिनमें इलेक्ट्रॉनिक्स, पेट्रोलियम इंजीनियरिंग, मौसम पूर्वानुमान, चिकित्सा, अंतरिक्ष अनुसंधान और बहुत कुछ शामिल हैं। उदाहरण के लिए, नासा सुपरकंप्यूटर का उपयोग अंतरिक्ष उपग्रहों को लॉन्च करने और अंतरिक्ष अन्वेषण के लिए निगरानी और नियंत्रित करने के लिए करते है।

5. कार्य स्टेशन:

यह एक सिंगल यूजर कंप्यूटर है। हालांकि यह एक पर्सनल कंप्यूटर की तरह है, इसमें माइक्रो कंप्यूटर की तुलना में अधिक शक्तिशाली माइक्रोप्रोसेसर और उच्च गुणवत्ता वाला मॉनिटर है। भंडारण क्षमता और गति के मामले में, यह एक पर्सनल कंप्यूटर और एक मिनी कंप्यूटर के बीच आता है। वर्क स्टेशन आमतौर पर विशेष अनुप्रयोगों जैसे डेस्कटॉप प्रकाशन, सॉफ्टवेयर विकास और इंजीनियरिंग डिजाइन के लिए उपयोग किए जाते हैं।

कंप्यूटर का उपयोग करने के लाभ:

आपकी उत्पादकता बढ़ाता है: एक कंप्यूटर आपकी उत्पादकता बढ़ाता है। उदाहरण के लिए, वर्ड प्रोसेसर की बुनियादी समझ होने के बाद, आप आसानी से और जल्दी से दस्तावेज़ बना सकते हैं, संपादित कर सकते हैं, स्टोर कर सकते हैं और प्रिंट कर सकते हैं।

इंटरनेट से जुड़ता है: यह आपको इंटरनेट से जोड़ता है जिससे आप ईमेल भेज सकते हैं, सामग्री ब्राउज़ कर सकते हैं, जानकारी प्राप्त कर सकते हैं, सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का उपयोग कर सकते हैं, और बहुत कुछ कर सकते हैं। इंटरनेट से जुड़कर आप अपने लंबी दूरी के दोस्तों और परिवार के सदस्यों से भी जुड़ सकते हैं।

भंडारण: एक कंप्यूटर आपको बड़ी मात्रा में जानकारी संग्रहीत करने की अनुमति देता है, उदाहरण के लिए, आप अपनी परियोजनाओं, ई-बुक्स, दस्तावेजों, फिल्मों, चित्रों, गीतों और मो को स्टोर कर सकते हैं।

ized डेटा और सूचना: यह न केवल आपको डेटा स्टोर करने की अनुमति देता है बल्कि आपको अपना डेटा व्यवस्थित करने में भी सक्षम बनाता है। उदाहरण के लिए, आप अलग-अलग डेटा और सूचनाओं को संग्रहीत करने के लिए अलग-अलग फ़ोल्डर बना सकते हैं और इस प्रकार आसानी से और तेज़ी से जानकारी खोज सकते हैं।

आपकी क्षमताओं में सुधार करता है: यदि आप की इंग्लिश की व्याकरण में अच्छे नहीं हैं तो यह अच्छी अंग्रेजी लिखने में मदद करता है। इसी तरह, यदि आप गणित में अच्छे नहीं हैं, और आपके पास अच्छी याददाश्त नहीं है, तो आप गणना करने और परिणामों को संग्रहीत करने के लिए कंप्यूटर का उपयोग कर सकते हैं।

शारीरिक रूप से विकलांगों की सहायता करें: इसका उपयोग शारीरिक रूप से विकलांगों की मदद के लिए किया जा सकता है, जैसे स्टीफन हॉकिंग, जो बोलने के लिए इस्तेमाल किए गए कंप्यूटर का उपयोग करने में सक्षम नहीं थे। इसे पढ़ने के लिए विशेष सॉफ़्टवेयर स्थापित करके नेत्रहीन लोगों की मदद करने के लिए भी इसका उपयोग किया जा सकता है।

आपका मनोरंजन करता है: आप गाने सुनने, मूवी देखने, गेम खेलने आदि के लिए कंप्यूटर का उपयोग कर सकते हैं।

कंप्यूटर हमारे जीवन का हिस्सा बन गया है। हम एक दिन में बहुत से ऐसे काम करते हैं जो कंप्यूटर पर निर्भर होते हैं। कुछ सामान्य उदाहरण इस प्रकार हैं:

कार्ड स्विप मशीन : इस मशीन से आप अपने डेबिट कार्ड को स्विप कर के किसी भी वस्तु का भुकतान कर सकते है।

एटीएम: एटीएम से नकदी निकालते समय, आप एक ऐसे कंप्यूटर का उपयोग कर रहे हैं जो एटीएम को निर्देश लेने और तदनुसार नकदी निकालने में सक्षम बनाता है।

%d bloggers like this: